वेलेंटाइन का बुखार: महबूबा से मिलने के लिए फांद गया एयरपोर्ट की दीवार और फिर..

77

फरवरी का महीना है. वेलेंटाइन वीक चल रहा है. लोग फोन पर कॉल या मैसेज के जरिए अपनी महबूबा को प्रपोज़ कर रहे हैं. लेकिन एक ऐसा शक्श भी है जो अपनी महबूबा को प्रपोज़ करने के लिए एयरपोर्ट की दीवार फांद रनवे पर दौड़ने लगा. दरअसल यूएई में रहने वाला एक लड़का भी इंडिया में रहने वाली गर्लफ्रेंड को विश करना चाह रहा था, उससे मिलकर अपने प्यार का इजहार करना चाहता था. लेकिन उसके पास इंडिया आने के लिए पासपोर्ट नहीं था. ऐसे में वो चुपके से एयरपोर्ट की दीवार फांद गया और प्लेन पकड़ने के लिए रनवे पर ही दौड़ पड़ा.

बिना पासपोर्ट अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने आ रहा था इंडिया-

लड़के का नाम आरके बताया जा रहा है. उम्र 26 साल है. आरके पेशे से इंजीनियर है और यूएई में जॉब करता है. वो अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए इंडिया जाना चाहता था लेकिन जिस कंपनी में वो काम करता है उसने पासपोर्ट जब्त कर लिया है. कई बार मांगने पर भी पासपोर्ट वापस नहीं मिला. लिहाजा वो चोरी से यूएई के शारजाह इंटरनेशनल एयरपोर्ट की दीवार फांद कर रनवे में घुस गया. उसने प्लेन पकड़ने के लिए दौड़ भी लगाई लेकिन असफल रहा. बाद में यूएई पुलिस ने उसे अरेस्ट कर लिया. उसने कहा कि मैं अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए भारत लौटना चाहता था उसके लिए चाहे मुझे कोई कीमत चुकानी पड़े.

अरेस्ट होने के बाद आरके ने जो कहा वो सुन कर आप भी कहेंगे की इश्क की कोई सीमा नहीं होती. आरके का कहना है कि वो एक आजाद इंसान है. वो अपनी गर्लफ्रेंड से बहुत प्यार करता है और जल्द ही उससे शादी करना चाहता है. उसने लड़की के घरवालों को भी राजी कर लिया है. बता दें कि अगर इस मामले में आरके दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें पांच साल तक की सजा हो सकती है.

क्यों और कब से मनाया जा रहा है वैलेंटाइन डे?

‘ऑरिया ऑफ जैकोबस डी वॉराजिन’ नाम की पुस्तक के मुताबिक रोम के एक पादरी थे संत वैलेंटाइन. वो दुनिया में प्यार को बढ़ावा देने में मान्यता रखते थे. उनके लिए प्रेम में ही जीवन था. लेकिन इसी शहर के एक राजा क्लॉडियस को उनकी ये बात पसंद नहीं थीं. राजा को लगता था कि प्रेम से विवाह से पुरुषों की बुद्धि और शक्ति दोनों ही खत्म होती हैं. इसी वजह से उसके राज्य में सैनिक और अधिकारी शादी नहीं कर सकते थे.

लेकिन संत वैलेंटाइन ने राजा क्लॉडियस के इस आदेश का विरोध किया और रोम के लोगों को प्यार और विवाह के लिए प्रेरित किया. इतना ही नहीं, उन्होंने कई अधिकारियों और सैनिकों की शादियां भी कराई. इस बात से राजा भड़का और उसने संत वैलेंटाइन को 14 फरवरी 269 में फांसी पर चढ़वा दिया. उस दिन से हर साल इसी दिन को ‘प्यार के दिन’ के तौर पर मनाया जाता है.

 

Also Read:

“शिव” से बड़ा क्रांतिकारी कोई नहीं..

सबका बदला लेगा रे….तेरा रोहित

4 दिन बाद होश में आते मेजर अभिजीत ने पुछा, ‘आतंकियों का क्या हुआ”?

बर्थडे स्पेशल: जब तीन बारातियों के साथ दुल्हन लेने पहुंच गए थे फ़ैज़