भारतीय क्रिकेटर हार्दिक पांड्या के उपर FIR दर्ज करने के आदेश दिए गए हैं. वजह है पांड्या का एक ट्वीट. दरअसल 26 दिसंबर, 2017 को हार्दिक पांड्या ने अपने ट्विटर अकाउंट से विधान के निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर के खिलाफ टिप्पणी की थी.

टाइम्स ऑफ इंडिया के पांड्या ने अपने ट्वीट में लिखा था कि, ‘कौन आंबेडकर? ‘वह व्यक्ति जिसने देश के संविधान का ड्राफ्ट तैयार किया या फिर वो जिसने देश को आरक्षण के नाम पर एक बीमारी दी.’

पांड्या के इस ट्वीट के बाद राष्ट्रीय भीम सेना के सदस्य डी.आर मेघवाल ने पांड्या के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की थी. मेघवाल ने बताया कि 26 दिसंबर, 2017 को अपने ट्विटर अकाउंट पर संविधान के निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर के खिलाफ टिप्पणी की थी. मेघवाल ने आरोप लगाया है कि पांड्या ने इस पोस्ट में न सिर्फ डॉ. भीमराव अंबेडकर को अपमानित किया गया, बल्कि दलित समुदाय के लोगों की भावनाओं को भी ठेस पहुंचाया है.

अब इस केस में जोधपुर की एक स्‍पेशल एससी/एसटी कोर्ट ने पुलिस को हार्दिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश जारी किया है.