दिल्ली के उत्तरी पश्चिमी क्षेत्र का इलाका. नाम है नरेला. इसी इलाके में बवाना जेजे कॉलोली की झुग्गी के आस पास एक मदरसा है. जहां आस-पास के बच्चे पढ़ने जाया करते हैं. पढ़ाने का जिम्मा एक मौलवी के पास था. नाम है जफीर आलम. जिसकी उम्र करीब 70 साल है.

जफीर आलम पिछले कई सालों से इसी कॉलोनी में रह रहा था और पिछले 9 साल से मदरसे में बच्चों को पढ़ाता था. इसी इलाके की एक 9 साल की बच्ची पिछले 4 महीने से इसी मदरसे में उर्दू पढ़ने के लिए जाया करती थी. उसके साथ कई और बच्चे भी उर्दू पढ़ने जाते थे.

जेजे कॉलोली की झुग्गी
पिछले महीने के आखिरी रविवार को भी बच्ची रोजाना की तरह से मदरसे में उर्दू सिखने गई थी. वहां मौलाला ने सभी बच्चों को उर्दू की तालीम दी और शाम साढ़े 7 बजे के आस-पास मदरसा बंद कर दिया. मौलाला ने सारे बच्चों को घर भेज दिया सिवाय उस बच्ची के. मौलाना ने बच्ची को पांच रुपये का लालच दिया. और उसे रोक लिया. बच्ची भी उस मौलाना को दादा बोलती थी, इसलिए बिना डरे रूक गई. मदरसा बंद करने के बाद मौलाना ने उस बच्ची साथ रेप किया और किसी से बताने पर जान से मारने की धमकी दी.

इस घटना के बाद बच्ची घर आ गई और किसी को कुछ नहीं बताया. उसे शायद पता ही नहीं था उससे साथ असल में हुआ क्या है. लेकिन इस दौरान वो बार-बार बाथरूम जा रही थी. अगले दिन वो खेलने भी नहीं गई. मां ने वजह पूछी तो बताया उसकी तबीयत खराब है, वो खेलने नहीं आएगी.

घटना के 2 दिन बाद बच्ची के घर उसकी पडोस की एक औरत आई. बच्ची इन्हें मौसी कहती थी. मौसी ने देखा बच्ची की तबीयत खराब है. उसे खून बह रहा है. मौसी को लगा कि बच्ची ने खेलते वक्त खुद को चोट लगा लिया है शायद इसी वजह से उसका खून बह रहा है.

लेकिन शाम होते-होते बच्ची भागते हुए मौसी के पास पहुंची और बताया कि उसका खून बहना बंद नहीं हो रहा है. मौसी भी घबरा गई और उसे पास के एक अस्पताल में ले गई. अस्पताल में पता चला बच्ची के साथ रेप हुआ है. मौसी ने उससे पूछा किसी ने कुछ किया है तुम्होरे साथ? जिसके बाद बच्ची ने मौलाना वाली बात बताई.

अस्पताल की ओर से पूरी घटना की जानकारी नरेला थाने को दी गई. मेडिकल में रेप की पुष्टि हो गई थी, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी मौलवी जफीर आलम को गिरफ्तार कर लिया.

वहीं बच्ची की मौसी ने दिल्ली महिला आयोग के हेल्पलाइन नंबर 181 पर फोन कर मदद मांगी. 28 फरवरी की सुबह ही दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने बाबा साहब अंबेडकर अस्पताल पहुंचीं, जहां बच्ची का इलाज चल रहा है. वहीं इलाके के लोगों को भी जब पूरे वारदात की जानकारी हुई तो वो अस्पताल पहुंचे और पुलिस से मौलाना के लिए फांसी की मांग की.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, “रेप पीड़ित बच्ची को देखना बहुत मुश्किल है. उसकी आंखें, दर्द और उसके लगे सदमे को बता पाना नामुमकिन है. 9 साल की बच्ची बहुत दर्द से गुजर रही है. इसका जिम्मेदार कौन है?” फिलहाल, इस मामले में अन्य जानकारी आना अभी बाकी है.