नई दिल्ली: कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो अपने परिवार के साथ की भारत की सैर पर आएं हैं. जस्टिन ट्रूडो के लिए मुंबई और दिल्ली में आयोजित दो कार्यक्रमों के लिए एक खालिस्तानी आतंकवादी को भी न्योता भी भेजा गया था. जिस खालिस्तानी आतंकवादी को बुलाया गया था उसका नाम है जसपाल अटवाल.

जसपाल अटवाल ने मंगलवार को मुंबई वाले कार्यक्रम में शिरकत भी की थी. और कनाडाई प्रधानमंत्री की पत्नी सोफी के साथ तस्वीर भी खिंचवाई थी. जब सबको पता कि जसपाल अटवाल एक खालिस्तानी आतंकवादी है तो कनाडाई दूतावास ने आज रात दिल्ली में आयोजित होने वाले रात्रिभोज से उसका न्योता वापस ले लिया है.

मुंबई में आयोजित कार्यक्रम के दौरान अटवाल को न सिर्फ पीएम की पत्नी सोफी ट्रूडो के साथ तस्वीर खिंचवाते देखा गया, बल्कि उसने कनाडा के बुनियादी ढांचा व सामुदायिक मंत्री के साथ भी तस्वीर खिंचवाई.

 

कौन है जसपाल अटवाल-

खालिस्तान आतंकवादी जसपाल अटवाल प्रतिबंधित भारतीय सिख युवा संघ में सक्रिय था. जसपाल अटवाल को 1986 वैंकूवर द्वीप पर पंजाब के मंत्री, मल्लिकात सिंह सिद्धू की हत्या के प्रयास में दोषी ठहराया गया था, वह चार व्यक्तियों में से एक था. जिन्होंने सिंधु की कार पर हमला किया और गोली मार दी.

मल्कियत सिंह सिद्धू को दो गोली मारी गई थीं, लेकिन वह उस समय बच गए थे, हालांकि बाद में हिन्दुस्तान में उनकी हत्या कर दी गई थी. ट्रायल जज ने इस हमले को ‘आतंकवाद की घटना’ कहकर पुकारा था, और अटवाल तथा अन्य दोषियों को 20 साल कैद की सज़ा सुनाई थी. अटवाल ने बाद में पैरोल बोर्ड के समक्ष कबूल किया था कि वारदात के दिन वह भी शूट करने वालों में शामिल था.

jaspal-atwal-amarjeet-sohi-canada-ministr

अभी इस बात को पता नहीं चल रहा है कि अटवाल को भारत में आधिकारिक कार्यक्रमों में शिरकत करने के लिए मंज़ूरी कैसे मिल गई. हालिया सालों में अटवाल कनाडा की राजनीति में प्रांतीय तथा केंद्रीय स्तर पर सक्रिय रहा है.