पिछले साल हुए पंजाब विधानसभा चुनाव हुए थे. उस दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया के कथित तौर पर पंजाब के ड्रग माफ़िया के साथ संबंध होने के आरोप लगाए थे. जिसके बाद इन आरोपों को ग़लत बताते हुए बिक्रम सिंह मजीठिया ने केजरीवाल, आप सांसद संजय सिंह और पार्टी प्रवक्ता आशीष खेतान के ख़िलाफ़ अमृतसर कोर्ट में मानहानि का मुक़दमा कर दिया था.

15 मार्च 2018 को अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के एक कोर्ट में हलफ़नामा दाख़िल कर शिरोमणि अकाली दल के महासचिव बिक्रम सिंह मजीठिया से माफ़ी मांगी ली.

केजरीवाल के इस माफीनामा के बाद आम आदमी पार्टी में मतभेदों का दौर शुरू हो गया है. इस माफी से पार्टी के सांसद भगवंत मान ने पंजाब प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

भगवंत मान ने ट्वीट किया, ”मैं पंजाब प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे रहा हूं. ड्रग माफिया के ख़िलाफ मेरी लड़ाई जारी रहेगी. पंजाब के आम आदमी होने के नाते मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई भी जारी रखूंगा.”