कविता Cafe में आज पढ़िए महादेवी वर्मा की रचना “जो तुम आ जाते एक बार”

जो तुम आ जाते एक बार

कितनी करूणा कितने संदेश
पथ में बिछ जाते बन पराग
गाता प्राणों का तार तार
अनुराग भरा उन्माद राग

आँसू लेते वे पथ पखार
जो तुम आ जाते एक बार

हँस उठते पल में आर्द्र नयन
धुल जाता होठों से विषाद
छा जाता जीवन में बसंत
लुट जाता चिर संचित विराग

आँखें देतीं सर्वस्व वार
जो तुम आ जाते एक बार

ये भी पढ़ें-

 5 ऐसी कविताएं पढ़वाते हैं, जिन्हें पढ़कर आप मंत्रमुग्ध हो जाएंगे.
डॉ. अंबेडकर के बारे में ये टिप्पणी कर बुरा फंसे हार्दिक पांड्या
Don’t Worry आपका आधार डेटा 5 फुट मोटी दीवार के पीछे सुरक्षित है
यूपी बोर्ड परीक्षा की कापी में जांच के दौरान निकला रुपया, साथ में ये भी लिखा था…
सरकारी बैंकों में पैसा नहीं, सरकार का झूठ जमा है
उत्तर प्रदेश के उपचुनाव के बाद राज्यसभा चुनाव में भी बीजेपी को मिलेगी हार
नवरात्रि स्पेशल: मां दुर्गा के इस मंदिर में आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाएंगी
ये हैं महाभारत की सबसे अनोखी तस्वीरें, नहीं देखा तो देख लो..
केजरीवाल आदमी हैं या सड़क जब देखे इनका U-टर्न आ जाता है
इस आसान तरीके से आप भी उठा सकते हैं ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ का लाभ
ये है दुनिया का सबसे शातिर चोर..